Saturday, 7 February, 2009

दर्द भरे शेर

बोलती है दोस्ती चुप रहता है प्यार
हसती है दोस्ती रुलाता है प्यार ,
मिलाती है दोस्ती जुदा करता है प्यार ,
फिर भी क्यूँ दोस्ती छोड़कर लोग करते है प्यार.. ?

Photobucket

वोह ज़िन्दगी ही क्या जिसमे मोहब्बत नही ,
वोह मोहबत ही क्या जिसमे यादें नही ,
वोह यादें ही क्या जिसमे तुम नही,
और वोह तुम ही क्या जिसके साथ हम नही ….

Photobucket

कितनी मोहबात है उनसे
हमसे बताया न गया
शायद वो समज न सके
या हामी से समजाया न गया
उन्होंने करीब आने की कोशिश न की
और हमसे हाथ बढाया न गया .......

gud

सांसे बनकर साथ निभाएंगे
कोशिस रहेगी की आपको नही सतायेंगे
कभी पसंद न आए साथ अगर तो बता देना
महसूस भी न करापयेंगे इतने दूर चले जायेंगे ..........

gud
गम मे हँसने वालो को कभी रुलाया नही जाता,
लहरों से पानी को हटाया नही जाता,
होने वाले हो जाते हैं ख़ुद ही दिल से अपने,
किसी को कहकर अपना बनाया नही जाता.

gud


भेजने वाली :रचना जी- gud

दिल की आवाज़

अपने दिल को पत्थर का बना कर रखना ,
हर चोट के निशान को सजा कर रखना ।


gud

उड़ना हवा में खुल कर लेकिन ,
अपने कदमों को ज़मी से मिला कर रखना ।


gud

छाव में माना सुकून मिलता है बहुत ,
फिर भी धूप में खुद को जला कर रखना ।

gud

उम्रभर साथ तो रिश्ते नहीं रहते हैं ,
यादों में हर किसी को जिन्दा रखना ।

gud

वक्त के साथ चलते-चलते , खो ना जाना ,
खुद को दुनिया से छिपा कर रखना ।


gud

रातभर जाग कर रोना चाहो जो कभी ,
अपने चेहरे को दोस्तों से छिपा कर रखना ।


gud

तुफानो को कब तक रोक सकोगे तुम ,
कश्ती और मांझी का याद पता रखना ।

gud

हर कहीं जिन्दगी एक सी ही होती हैं ,
अपने ज़ख्मों को अपनो को बता कर रखना ।

gud

मन्दिरो में ही मिलते हो भगवान जरुरी नहीं ,
हर किसी से रिश्ता बना कर रखना ।


gud

भेजने वाली :रचना जी